बुंदेलखंड में 17 माह में 599 बलात्कार: 1590 छेडखानी
               
               
बुंदेलखंड में 17 माह में 599 बलात्कार: 1590 छेडखानी
 
 धीरज चतुर्वेदी छतरपुर
•••••••••••••••••••••••••••••••••••••••••••••••••••••••••••••••••••••••••••••••••••••
 छतरपुर म.प्र. @mplive24
उत्तरप्रदेश में बलात्कार की घटनाओ को लेकर हंगामा मचा हुआ है। पडोसी मध्यप्रदेश के बुंदेलखड ईलाके के पांच जिलो में भी कमोवेश यही हालात है। जनवरी 2015 से मई 2016 के बीच 17 माह में यहां 599 बलात्कार की घटनाये दर्ज हुई। जबकि महिलाओ के साथ छेडखानी के 1590 अपराध पंजीबद्ध हुये जो शर्मसार कर देने वाले है। चैकाने वाले आंकडे है कि इस वर्ष के पांच माह में महिलाओ पर विभिन्न तरीको से अत्याचार के 2274 मामले पुलिस थानो तक पंहुचे है।
महिलाओ की सुरक्षा के तमाम दावे किये जाते रहे हो पर हकीकत रोगटे खडे कर देने वाली है। उत्तरप्रदेश इन दिनो बलात्कार के मामलो को लेकर राजनैतिक रूप से भी झुलस रहा है। यह सच है कि राजनीति के आरोप प्रत्यारोप किसी किसी भी प्रदेश में सत्ता की दलीय स्थिति के आधार पर बदलते रहते है। मध्यप्रदेश का बुंदेलखंड ईलाका भी महिला अत्याचार के मामले में कम नही है। उत्तप्रदेश से सटे बुंदेलखंड के सागर संभाग के इन पांच जिलो में पिछले वर्ष 2015 की बात की जाये तो छतरपुर, पन्ना, सागर, दमोह व टीकमगढ में बलात्कार, छेडखानी, अपहरण के 2678 अपराध दर्ज हुये थे। सबसे अधिक छेडखानी की घटनाये घटित हुई जिसके तहत 1119 अपराध पंजीबद्ध हुये। सामूहिक बलात्कार के 29 और बलात्कार के 419 मामले इन पांच जिलो में दर्ज हुये। महिलाओ के अपहरण और बलात्कार के अपराध की संख्यां 206 रही जो दर्शाती है कि दावो के बीच महिलाये कितनी सुरक्षित है। अनुसूचित जनजाति की महिलाओ पर भी अत्याचार का रिकार्ड कम नही है। एक वर्ष में 68 महिलाये बलात्कार का शिकार हुई और 116 महिलाओ के साथ छेडखानी की घटनाये घटित हुई। अनुसूचित जनजाति की महिलाओ के मामले में भी उनकी जनसंख्यां के आधार पर आंकलन किया जाये तो अत्याचार मे ंकम नही रही। इस वर्ग की 24 महिलाये बलात्कार और 28 छेडखानी का शिकार हुई। पुलिस नाबालिग लडकियो के प्रति कितनी गंभीर है यह तथ्य भी आंकडे उजागर करते है। बलात्कार के मामलो में दमोह, पन्ना और सागर पुलिस ने पास्को एक्ट के तहत किसी भी आरोपी पर मामला दर्ज नही किया। इसी तरह छेडखानी यानि शीलभंग के आरोप में पन्ना और सागर जिले की पुलिस ने बाल संरक्षण कानून का उपयोग करना उचित नही समझा। इस वर्ष के पांच माह अर्थात 152 दिनो में 2274 अपराध महिला के खिलाफ अपराध के दर्ज हुये है। जो हकीकत में महिलाओ के प्रति गंभीरता बरतने को नौंटकी निरूपित करते है। पांच जिलो में इन पांच माहो में बलात्कार के 151, छेडखानी के 471 एंव अपहरण के 267 अपराध दर्ज हो चुके है। इनमें बलात्कार के सागर में 66, दमोह में 16, छतरपुर में 30, पन्ना में 14 एंव टीकमगढ में 25 मामले दर्ज हुये। छेडखानी की घटनाओ को तो अब शायद पुलिस महकमा आम मानने लगा है। जिस पर अंकुश लगाने में नाकाम होने के आंकडे है। सागर में इन पांच माह में 193, दमोह में 78, टीकमगढ में 94, छतरपुर में 81 और पन्ना जिले में मात्र 25 अपराध पुलिस रेाजनामचे में दर्ज हुये। नगरीय और शहरी ईलाकेा में स्कूली व कालेज की छात्राओ से छेडखानी की घटनाये आमतोर पर घटित होती दिखाई दे जाती है। जो पुलिस थानो तक शिकायते नही पंहुच जाती। जो छेडखानी के मामले गंभीर रूप ले लेते है वे ही पुलिस की शरण मे ंपंहुचते हैं।
आंकडे दर्शाते है कि मध्यप्रदेश के बुंदेलखंड में भी महिला सुरक्षा के दावे थोथले अधिक नजर आ रहे है। अब महिलाओ के प्रति राजनैतिक प्रतिबद्धता का नाटक चाहे जिस राज्य में चाहे होता रहे।
Source ¦¦ धीरज चतुर्वेदी@ mplive24