महाराष्ट्र एटीएस ने साल 2006 से वांछित दो सिमी आतंकवादी को गिरफ्तार किया है. इनका नाम एजाज अकरम शेख और इलियास अकरम शेख है. दोनों को मध्य प्रदेश एटीएस और दिल्ली पुलिस की मदद से गुप्त सूचना के आधार पर गिरफ्तार किया गया.
महाराष्ट्र एटीएस ने साल 2006 से वॉन्टेड दो सिमी आतंकवादी को गिरफ्तार किया है. इनका नाम एजाज अकरम शेख और इलियास अकरम शेख है और ये दोनों भाई हैं. दोनों को मध्य प्रदेश एटीएस और दिल्ली पुलिस की मदद से गुप्त सूचना के आधार पर गिरफ्तार किया गया.

दोनों भाई मुंबई के कुर्ला के रहने वाले हैं और मुंबई में सीरियल ट्रेन ब्लास्ट के बाद शहर छोड़कर भाग गए थे. एटीएस महाराष्ट्र और एंटी टेरर एजंसियों ने दोनों को पकड़ने के लिए एक अभियान चलाया था, लेकिन वह सफल नहीं हो सके थे.

दोनों भाई सिमी के महासचिव और आतंकी सफदर नागोरी, आतंकी एहतेशान सिद्दीकी और अब्दुल सुभान कुरैशी उर्फ ​​तौकीर द्वारा संचालित मॉड्यूल का हिस्सा थे, जिन्हें भारत के ओसामा बिन लादेन के नाम से भी जाना जाता है.

सिद्दीकी को आतंकी गतिविधियों से संबंधित दो मामलों में दोषी ठहराया गया है, जबकि तौकीर को पिछले साल दिल्ली से गिरफ्तार किया गया था, जो 2007 और 2008 के बीच उत्तर प्रदेश, जयपुर, अहमदाबाद और दिल्ली में सिलसिलेवार विस्फोटों के मामलों की सुनवाई का इंतजार कर रहा है.

एमपी एटीएस और दिल्ली पुलिस की मदद से एक गुप्त सूचना के आधार पर इन दोनों आतंकियो को गिरफ्तार किया गया. झूठी पहचान का इस्तेमाल करने के संदेह में दोनों आरोपियों से 2006 और 2018 के बीच देश भर में हुए विभिन्न आतंकवादी बम विस्फोटों में उनकी संदिग्ध भागीदारी के बारे में पूछताछ की जा रही है.

दोनों आरोपियों को बुरहानपुर और दिल्ली से गिरफ्तार किया गया और ट्रांजिट रिमांड के लिए मुंबई लाया गया. यहां उन्हें अदालत में पेश किया गया जिसके बाद उन्हें पुलिस हिरासत में भेज दिया गया. एटीएस महाराष्ट्र का मानना ​​है कि दोनों की गिरफ्तारी एक बड़ी सफलता है क्योंकि इससे आईएम और सिमी जैसे आतंकी संगठनों के स्लीपर सेल और उनके साथ काम करने वाले अन्य सहयोगियों के बारे में जानकारी सामने आएगी.