हैदराबाद में पशु चिकित्सक के साथ हैवानियत करने वाले चारों आरोपियों को पुलिस ने मुठभेड़ में मार गिराया है। तेलंगाना पुलिस के अनुसार आरोपियों को राष्ट्रीय राजमार्ग-44 पर क्राइम सीन रीकंस्ट्रक्ट करने के लिए ले जाया गया था। इस दौरान आरोपियों ने पुलिस हिरासत से भागने की कोशिश की। इसके बाद पुलिस ने उनपर गोलियां चला दीं। इस मुठभेड़ में चारों आरोपियों की मौके पर ही मौत हो गई। इस मामले पर लगातार प्रतिक्रियाएं और अपडेट आ रहे हैं। जानिए किसने क्या कहा और अबतक का अपडेट -- 
स्थानीय लोगों ने पुलिसकर्मियों पर फूल बरसाए। 
महिलाओं ने पुलिसकर्मियों का मुंह मीठा करवाया। 
घटनास्थल पर जुटे लोग पुलिस जिंदाबाद के नारे लगाते दिखे।  
पीड़ित डॉक्टर के पड़ोसियों ने पुलिसकर्मियों को राखी बांधी 
 

रामदेव ने किया समर्थन, विरोध में मेनका

बाबा रामदेव ने कहा कि बलात्कारी और आतंकवादियों के खिलाफ पुलिस, सेना और अर्धसैनिक बलों को ऐसी ही कार्रवाई करनी चाहिए। ऑन द स्पॉट फैसला होना चाहिए। इस तरह के खूंखार अपराधियों के साथ ऐसा ही सलूक होना चाहिए। 

इस घटना पर भाजपा सांसद मेनका गांधी ने कहा कि जो हुआ खतरनाक है, हमारे देश में कानून है, अदालत है, तो आप पहले से बंदूक क्यों चला रहे हैं। क्या बंदूक लेकर लोगों को मार देंगे। किसी केस में देरी हो रही है तो क्या बंदूक चला देंगे। वो निहत्थे थे, जेल से लाए गए थे, आपने उनको बंदूक से मार दिया।  
 

सपा सांसद जया बच्चन ने कहा, देर आए दुरुस्त आए 
छत्तीसगढ़ के सीएम भूपेश बघेल ने कहा कि जब कोई अपराधी भागने की कोशिश करता है तो पुलिस के पास कोई विकल्प नहीं रह जाता है। 
वहीं, शर्मिष्ठा मुखर्जी ने कहा, जनता के दबाव की वजह से तो कहीं ये एनकाउंटर नहीं हुआ, पुलिस और सरकार अपने अधिकारों का दुरुपयोग न करे। 

जबकि दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल ने कहा कि जनता गुस्से में हैं चाहे मामला उन्नाव का हो या हैदराबाद का, इसलिए लोग एनकाउंटर पर खुशी जाहिर कर रहे हैं। ये चिंता की भी बात है क्यों लोगों ने क्रिमिनल जस्टिस सिस्टम में भरोसा खो दिया है। सभी सरकारों को इसे मजबूत करने पर काम करना होगा।