नई दिल्ली: महाराष्ट्र विधानसभा चुनाव (Maharashtra assembly elections 2019) के बाद केंद्र में सत्ताधारी राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (NDA) से शिवसेना (Shiv Sena) के अलग होने पर पार्टी के लोकसभा और राज्यसभा के सांसद शीतकालीन सत्र के दौरान विपक्ष में बैठे दिखेंगे. शिवसेना के सभी सांसदों को अब विपक्ष की कतार में कुर्सियां मिलेंगी. संसद के शीतकालीन सत्र से पहले आज दोपहर होने वाली एनडीए की बैठक में भी शिवसेना शामिल नहीं होगी.

शिवसेना के राज्यसभा सांसद संजय राउत अभी राज्यसभा में सत्ता पक्ष की तरफ 38 नंबर की सीट पर बैठते थे. सूत्रों के मुताबिक, अब वह विपक्षी कतार में 198 नंबर की सीट पर बैठेंगे. शिवसेना के दो अन्य राज्यसभा सांसदों की कुर्सी भी संजय राउत के आसपास रहेगी. वहीं, लोकसभा में शिवसेना के 18 सांसदों का सीटिंग अरेंजमेंट भी विपक्षी कतार में किया गया है. सूत्रों के मुताबिक उन्हें पांचवीं कतार में कुर्सी मिलेगी.

हर बार संसद सत्र के पहले रणनीति तय करने के लिए एनडीए की बैठक होती है. सोमवार से शुरू होने जा रहे संसद सत्र के पहले रविवार को दोपहर भाजपा नेतृत्व वाले एनडीए की बैठक है. महाराष्ट्र में साथ में चुनाव लड़ने के बाद भी नाता तोड़ लेने के कारण भाजपा ने इस अहम बैठक में शिवसेना को आमंत्रित नहीं किया है. शिवसेना नेता और राज्यसभा सांसद संजय राऊत भी कह चुके हैं कि पार्टी अब राजग की किसी बैठक में भाग नहीं लेगी.

शिवसेना, कांग्रेस, NCP ने तैयार किया CMP
महाराष्ट्र (Maharashtra) में शिवसेना (Shiv Sena), कांग्रेस (Congress) और एनसीपी (NCP )की गठबंधन सरकार का रास्ता करीब-करीब साफ हो गया है. कांग्रेस और शिवसेना शिवसेना पर दवाब बना कर काफी हद तक कॉमन मिनिमम प्रोग्राम (CMP) से उग्र हिंदुत्व को दूर रखने में कामयाब रही है लेकिन अब भी कुछ मुद्दे हैं जिन पर असहमति कायम है.