सहकारिता, संसदीय कार्य एवं सामान्य प्रशासन मंत्री डॉ. गोविन्द सिंह ने सहकारी भवन में 66वें सहकारिता सप्ताह के अन्तर्गत 'ग्रामीण सहकारिता के माध्यम से नवाचार' संगोष्ठी का शुभारंभ करते हुए कहा कि प्रदेश में त्रि-स्तरीय सहकारी व्यवस्था ही लागू रहेगी, जिससे ग्रामीणों को आवश्यक सुविधाएँ सहजता से उपलब्ध कराई जा सकें। डॉ. सिंह ने कहा कि देश के प्रथम प्रधानमंत्री पंड़ित जवाहरलाल नेहरू और राष्ट्रपिता महात्मा गांधी के ग्रामीणों के आर्थिक उत्थान के स्वप्न को पूरा करने में पूर्व उप मुख्यमंत्री स्वर्गीय श्री सुभाष यादव का योगदान सराहनीय रहा।

मंत्री डॉ. सिंह ने जानकारी दी कि प्रदेश की निष्क्रिय सहकारी संस्थाओं को पुनर्जीवित करने का प्रयास किया जा रहा है। इससे युवाओं को बड़ी संख्या में रोजगार के अवसर मिलेंगे और उपभोक्ताओं को उचित मूल्य पर गुणवत्तायुक्त सामग्री उपलब्ध होगी। डॉ. सिंह ने कहा कि सहकारिता सप्ताह के अन्तर्गत आयोजित संगोष्ठियों के निष्कर्षों के आधार पर नीतियों का निर्धारण किया जाएगा।

किसान कल्याण एवं कृषि विकास मंत्री श्री सचिन यादव ने संगोष्ठी की अध्यक्षता करते हुए कहा कि लघु कृषकों की समृद्धि में सहकारिता की महत्वपूर्ण भूमिका है। इसके माध्यम से छोटी जोत के किसानों की उपज को नया बजार उपलब्ध कराया जा सकता है, किसानों को उपज का लाभकारी मूल्य दिलाया जा सकता है। श्री यादव ने प्राथमिक सहकारी साख संस्थाओं को बहुउद्देशीय बनाने की आवश्यकता प्रतिपादित की।

इस अवसर पर मंत्रीद्वय ने गांधी जी के 150वीं जयंती वर्ष के उपलक्ष्य में आयोजित प्रदर्शनी का उद्घाटन किया और 'टूरफेड' वेबसाइट का लोकार्पण किया।

राज्य सहकारी संघ के प्रबंध संचालक श्री ऋतुराज रंजन ने सहकारी सप्ताह के दौरान आयोजित की जानेवाली गतिविधियों की जानकारी दी। उन्होंने बताया कि 15 नवम्बर को सहकारिता के लिये समर्थ विधि-विधान 16 नवम्बर को, सफलता की कहानियों के माध्यम से शिक्षा-प्रशिक्षण का पुर्न्मुखीकरण, 17 नवम्बर को सहकारिता का सुदृढ़ीकरण, 18 नवम्बर को सहकारिता के माध्यम से नई शासकीय पहल, 19 नवम्बर को युवाओं, महिलाओं और कमजोर वर्ग के लिये सहकारिता तथा 20 नवम्बर को सहकारिता के माध्यम से वित्तीय समावेशन तकनीक का अभिग्रहण और डिजिटिलाइजेशन विषय पर संगोष्ठी आयोजित की जाएगी।

कार्यक्रम में अपेक्स बैंक के प्रशासक श्री अशोक सिंह,प्रमुख सचिव सहकारिता एवं कृषि श्री अजीत केसरी, आयुक्त सह-पंजीयक श्री एम.के. अग्रवाल, मार्कफेड की प्रबंध संचालक श्रीमती स्वाति मीना नायक, अपेक्स बैंक के प्रबंध संचालक श्री प्रदीप नीखरा और नाबार्ड के मुख्य महाप्रबंधक श्री एस.के. बंसल भी उपस्थित थे।