इंडिया टुडे कॉन्क्लेव के आखिरी दिन शनिवार को शिवसेना सांसद संजय राउत, कांग्रेस नेता पृथ्वीराज चव्हाण और वंचित बहुजन आघाडी (वीबीए) के नेता प्रकाश आंबेडकर पहुंचे. 21 अक्टूबर को महाराष्ट्र विधानसभा चुनाव के मतदान से पहले तीनों नेताओं ने राज्य की सियासत से जुड़े विभिन्न मुद्दों पर बात की.
    चव्हाण ने कहा कि बीजेपी विपक्षी नेताओं को पद और पैसे ऑफर कर रही हैउन्होंने कहा, हो सकता है कि विपक्ष के नेता रहे राधाकृष्ण विखे को मैनेज किया गया हो

मुंबई में आयोजित इंडिया टुडे कॉन्क्लेव के आखिरी दिन शनिवार को शिवसेना सांसद संजय राउत, कांग्रेस नेता पृथ्वीराज चव्हाण और वंचित बहुजन आघाडी (वीबीए) के नेता प्रकाश आंबेडकर पहुंचे. 21 अक्टूबर को महाराष्ट्र विधानसभा चुनाव के मतदान से पहले तीनों नेताओं ने राज्य की सियासत से जुड़े विभिन्न मुद्दों पर बात की. कांग्रेस नेता पृथ्वीराज चव्हाण ने कहा कि 2014 और 2019 में कांग्रेस का प्रदर्शन लोकसभा और विधानसभा चुनावों में खराब रहा. हालांकि उन्होंने माना कि कांग्रेस पार्टी मरी नहीं है. अगर मर गई होती तो तीन राज्यों- मध्य प्रदेश, राजस्थान और छत्तीसगढ़ में चुनाव कैसे जीतती.

'खराब रहा चुनाव में प्रदर्शन'

उन्होंने कहा, 2014 में हमारा प्रदर्शन बुरा था. हमारा लीडरशिप भी गड़बड़ रही है. उन्होंने बीजेपी पर जमकर आरोप लगाए. जब उनसे पूछा गया कि उनके नेता विपक्ष राधाकृष्ण विखे पाटिल बीजेपी में शामिल होकर मंत्री बन गए. यह कैसा विपक्ष है? इस पर उन्होंने कहा कि शिवसेना ने कभी भी कैबिनेट के फैसले का विरोध नहीं किया. वो करते भी नहीं. नेता विपक्ष का मसला गंभीर था. हो सकता है कि विपक्ष के नेता को मैनेज किया गया हो.

'साम-दाम की नीति अपना रही बीजेपी'

इसके बाद चव्हाण से पूछा गया कि कांग्रेस और एनसीपी के लोग बीजेपी और शिवसेना में जा रहे हैं, इसे आप कैसे देखते हैं? इसके जवाब में उन्होंने कहा, कांग्रेस ने कई बार ऐसा देखा है. ये बीजेपी और शिवसेना की रणनीति का हिस्सा हो सकता है. अमित शाह की भी यही है. वे कहते हैं कि देश को कांग्रेस मुक्त करना है. बीजेपी साम, दाम, दंड, भेद की नीति पर चलकर लोगों को अपने साथ ले जा रही है. पद और पैसे ऑफर कर रही है. ये महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस का राजनीतिक भ्रष्टाचार है. अगर हमने कुछ गलत किया तो हम उसे भुगत रहे हैं, वे भी भुगतेंगे.

'उठाएंगे बेरोजगारी और गिरती अर्थव्यवस्था का मुद्दा'

इसके बाद चव्हाण से पूछा गया कि क्या अब हम सिंगल पार्टी और टू-पीपल डेमॉक्रेसी बनते जा रहे हैं? वोटर्स के सामने कोई विकल्प नहीं है. कांग्रेस कैसे इसे बदलेगी? इस पर चव्हाण ने कहा, बीजेपी विपक्ष को ही खत्म करना चाहती है. वह सिंगल पार्टी रूल की ओर बढ़ रही है. उन्होंने कहा कि हम चुनाव में बेरोजगारी, गिरती इकोनॉमी और तानाशाही जैसे मुद्दों को लेकर उतरेंगे और वोटर्स को जागरुक करेंगे. गौरतलब है कि महाराष्ट्र में 288 सीटों पर 21 अक्टूबर को विधानसभा चुनाव होंगे. नतीजों का ऐलान 24 अक्टूबर को किया जाएगा.