पटना: पटना नगर निगम में कई गुटों में बंट चुके पार्षदों की आपसी लड़ाई अब खुलकर सामने आ गई है. कुछ ऐसे आरोप-प्रत्यारोप लगाए गए हैं जो काफी गंभीर है. आरोप निगम की मेयर सीता साहू के बेटे शिशिर पर लगाए गए हैं. हालांकि शिशिर ने आरोपों से इनकार किया है. आज इसी कड़ी में निगम की वार्ड नंबर 21 की पार्षद पिंकी देवी ने मेयर के बेटे शिशिर पर अभद्रता करने और भद्दे इशारे करने का आरोप लगाया. पिंकी देवी ने आरोप लगाया कि बैठक के दौरान शिशिर कुमार ने उन्हें आंख मारी और बदसलूकी की.

पिंकी देवी के मुताबिक, जब शिशिर ने उन्हें आंख मारी तो पहले तो उन्होंने अनदेखा कर दिया लेकिन जब दूसरी बार उन्होंने आंख मारी तो इसकी शिकायत मेयर सीता साहू से की तो सीता साहू ही भड़क उठी. इसी बीच शिशिर के दोस्त इंद्रदीप चंद्रवंशी ,सतीश गुप्ता उनके साथ धक्कामुक्की करने लगे. पिंकी देवी ने कदमकुंआ थाना में केस दर्ज कराया है.

जिसमें शिशिर कुमार के साथ ही स्थायी समिति के सदस्य इंद्रदीप चंद्रवंशी और सतीश गुप्ता के नाम भी शामिल हैं. पिंकी देवी ने कुछ दिन पहले स्थायी समिति से इस्तीफा दिया था. उन्होंने मेयर के बेटे शिशिर पर निगम के काम में दखल देने और भ्रष्टाचार को बढ़ावा देने का आरोप लगाया था. कदमकुंआ थाना में केस दर्ज कराने के बाद पिंकी देवी ने कहा कि अगर उन्हें इंसाफ नहीं मिला तो वो महिला आयोग भी जाएंगी.


हालांकि शिशिर ने अपने ऊपर लगाए आरोपों से इनकार कर दिया है. शिशिर कुमार ने कहा कि,निगम में उनकी माता सहित 49 महिला पार्षद हैं और आजतक किसी के खिलाफ कोई टिप्पणी नहीं की.शिशिर के मुताबिक, पिंकी देवी वसूली और वेडिंग जोन के नाम पर मनमानी करती हैं..लिहाजा उन्होंने ये आरोप लगाए.

शिशिर के मुताबिक क्योंकि उनकी मां मेयर हैं लिहाजा वो स्थायी समिति या निगम बोर्ड की बैठक के वक्त मां की वापसी का इंतजार करते हैं. निगम में शह और मात का खेल पिछले दो महीने से चरम पर है.सबसे पहले डिप्टी मेयर के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव,फिर मेयर के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव ,फिर नए डिप्टी मेयर का चुनाव ये सभी बातें पार्षदों के बीच चल रहे आंतरिक गतिरोध का नतीजा है.

पिंकी देवी से पहले स्थायी समिति की सदस्य मधु चौरसिया भी इस्तीफा दे चुकी हैं. निगम के सभी 75 पार्षद साफ तौर से कई गुटों में बंट चुके हैं.