ठाणे।  केंद्र और राज्य सरकार भ्रष्टाचार रोकने का लाख उपाय करे मगर ये थमने का नाम ही नहीं ले रहा है. आंकड़े बताते हैं कि विगत कुछ वर्षों में भ्रष्टाचार के मामलों में भारी बढ़ोत्तरी हुई है. आलम यह है कि प्रायः हर रोज महाराष्ट्र में रिश्वत लेते रंगे हाथ पकड़े जाने के ३ से ४ मामले सामने आ रहे हैं. एक बार फिर ठाणे हफ्ता विरोधी पथक (एसीबी) ने 10 लाख रुपये रिश्वत लेते हुए सिंधुदुर्ग स्थित मालवण के भू-कर मापक राजेन्द्र परमसागर को रंगे हाथ गिरफ्तार किया है. उक्त मामले में सर्वेयर रविन्द्र अड़ीसरे की खोज की जा रही है. मिली जानकारी के मुताबिक एक जमीन मालिक ने अपनी जमीन का नाप-जोख कराया था. माप किए गए कागजों को देने के लिए अधिकारियों ने उससे 30 लाख रुपये की मांग की थी. रुपयों को तीन किश्त में देने की बात तय हुई थी. घूस मांगे जाने की शिकायत जमीन मालिक ने ठाणे एसीबी से की थी. शिकायत के आधार पर अधिकारियों ने ठाणे स्थित सरकारी विश्राम गृह के पास जाल बिछाया और रिश्वत की पहली किश्त के रूप में 10 लाख रुपये लेते परमसागर को गिरफ्तार कर लिया. अधिकारियों ने जांच के दौरान मामले में सर्वेयर रविन्द्र अड़ीसरे को भी लिप्त पाया है, जो फरार हैं.