अहमदाबाद | वडगाम से निर्दलीय विधायक जिग्नेश मेवाणी ने मुख्यमंत्री विजय रूपाणी को पत्र लिखकर एक गांव एक स्मशान की नीति बनाने की मांग की है| मेवाणी ने कहा कि सरकार अलग अलग ग्रांट देकर जाति आधारित स्मशान बनाती है, जिसकी वजह से एक ही गांव में एक से ज्यादा स्मशान हैं| कई दफा दलित समाज के स्मशान को लेकर सवाल उठते हैंष| दलितों के स्मशान जाने के रास्ते पर अतिक्रमण किया जाता है| स्मशान नहीं होने की वजह से दलित समाज को काफी मुश्किलों का सामना करना पड़ता है| इसलिए सरकार को चाहे कि उसे एक गांव एक स्मशान की नीति बनानी चाहिए| यदि इसमें अवरोध पैदा होता है तो राज्य सरकार समरस गांव की तरह खास योजना बनाए| एक गांव एक स्मशान की नीति अपनाने वाले गांव को प्रोत्साहन के तौर पर तीन लाख या पांच लाख की ग्रांट तय की जाए| स्मशान की भेदभावपूर्ण नीति को त्यागकर एक गांव एक स्मशान नीति अपनाने वाले गांवों को प्रोत्साहन देने की राज्य सरकार को पहल करनी चाहिए|