गांधीनगर.: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बुधवार को महाराष्ट्र के माढा (सोलापुर) में चुनावी सभा को संबोधित किया। उन्होंने कहा कि पिछड़ा होने की वजह से ही कांग्रेस और उसके साथियों ने मुझे जातिसूचक गालियां देने में कोई कसर बाकी नहीं रखी। इतना बड़ा देश चलाने के लिए मजबूत नेता चाहिए। 2014 में मिले भारी बहुमत के चलते ही मैं बड़े फैसले ले पाया। मोदी आज गुजरात में भी तीन रैलियां करेंगे।

'दलित-आदिवासी को गाली देश और मोदी बर्दाश्त नहीं करेगा'
मोदी ने कहा, "नामदार ने पहले चौकीदारों को चोर कहा। हर हिंदुस्तानी चौकीदार कहने लगा तो उनके मुंह पर ताला लग गया। अब मुंह छिपाते घूम रहे हैं। कांग्रेस के नामदार पूरे समाज को गाली देने में जुट गए हैं। कांग्रेस और उसके साथी कहते हैं कि समाज में जो भी मोदी हैं, वे सब चोर हैं। पिछड़ा होने की वजह से कांग्रेस और उसके साथियों ने मेरी जातियां बताने वाली गालियां देने में कोई कमी नहीं रखी। इस बार तो उन्होंने हद पार करते हुए पूरे पिछड़े समाज को ही गाली दी है। मुझे गाली दो। मैं बर्दाश्त कर लूंगा। दलित, आदिवासी को किसी ने भी अपमानित करने के लिए चोर कहा तो मोदी और देश बर्दाश्त नहीं करेगा।"
 
"कुछ मिलावटी दलों पर देश का विश्वास उठ गया है। अरसे बाद मैं ऐसा चुनाव देख रहा हूं, जहां जनता और सरकार को वापस लाने के लिए जनता खुद प्रचार कर रही है। अपने खर्चे से कर रही है, अपना समय दे रही है। आपका विश्वास मेरी पूंजी है। यही मैंने कमाया है। याद करिए, पहले कितने घोटाले होते थे। कितना शर्मसार होते थे। आपके इस सेवक ने 5 साल सरकार चलाई। भ्रष्टाचार का एक दाग नहीं लगा। हां, दिन में सपने देखने वाले को मैं रोक नहीं सकता। झूठ बोलने वालों को मैं रोकने की कोशिश भी नहीं करता।"

'एयर कंडीशंड कमरे में बैठने वाले सच्चाई से दूर'

मोदी ने कहा, "जो लोग दिल्ली में एयर कंडीशंड कमरों में बैठकर कयास लगाते हैं, उन लोगों को इस देश धरती की सच्चाई पता ही नहीं है। अब समझ आया कि शरद राव ने मैदान क्यों छोड़ दिया। शरद राव भी खिलाड़ी हैं, वे हवा का रुख जान लेते हैं। वो अपना नुकसान कभी नहीं होने देते।"

"मजबूत और संवेदनशील सरकार का मतलब क्या होता है, छत्रपति शिवाजी महाराज की यह धरती अच्छी तरह से जानती है। हमारी सरकार भारत को 21वीं सदी में नई ऊंचाई तक पहुंचाने वाली मजबूत सरकार है। अगर गांव में ढीला-ढाला पुलिस वाला आ जाए तो क्या आपको अच्छा लगेगा। बच्चा स्कूल जाता है, वहां अगर मास्टरजी में दम ही नहीं है तो बच्चे को क्या आप वहां पढ़ाना पसंद करते हैं।" 

'मजबूत सरकार देंगे या कमजोर सरकार सह लेंगे'
प्रधानमंत्री ने कहा, "इतना बड़ा देश चलाना है तो मजबूत नेता चाहिए। 2014 में मुझे आपसे ताकत मिली। देश के लिए बड़े  फैसले ले पाया। गरीब के कल्याण के लिए पूरी शक्ति लगाकर काम कर पाया। आपको फिर से तय करना है कि देश के मजबूत सरकार देंगे या कमजोर सरकार सह लेंगे।" 

"आपको मजबूत हिंदुस्तान चाहिए या मजबूर हिंदुस्तान चाहिए। कौन मजबूत बनाएगा। राकांपा की महामिलावट क्या भारत को मजबूत बना सकती है। जी नहीं, यह मोदी कर पाया। आप-हम मिलकर मजबूत भारत के लिए मजबूत सरकार भी बनाएंगे। आप हम मिलकर मजबूत हिंदुस्तान बनाने का संकल्प करने के लिए भयंकर धूप में तप रहे हैं। ऐसा हिंदुस्तान बनाएंगे, जिसकी तरफ आंख उठाकर भी देख नहीं सकेगा। ऐसा हिंदुस्तान आतंक के सरपरदस्तों को पाताल से खोज कर निकालेगा। भारत के सपूतों ने बालाकोट में पाक के ठिकानों को तबाह किया तो आपको गर्व हुआ कि नहीं।" 

माढा पर राकांपा का कब्जा

महाराष्ट्र की माढा सीट से वर्तमान में राकांपा के विजय सिंह मोहिते पाटील सांसद हैं। राकांपा के वर्चस्व वाली इस सीट पर भाजपा से रणजीत सिंह चुनाव लड़ रहे हैं। रणजीत विजय मोहिते पाटिल के बेटे हैं। विजय सिंह मोहिते पाटील ने अपने बेटे रणजीत सिंह को माढा सीट से चुनाव लड़ाने का प्रस्ताव रखा था, लेकिन राकांपा अध्यक्ष शरद पवार ने इन्कार कर दिया। इसके बाद उनके बेटे रणजीत सिंह पाटील ने भाजपा का दामन थाम लिया। भाजपा ने दांव चलते हुए रणजीत सिंह को चुनावी रण में उतार दिया। 

शरद पवार की सीट रही है माढा

सियासी समीकरण की बात करें तो 2009 में शरद पवार ने कांग्रेस से अलग होकर राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी बनाई थी, जिसके बाद चुनाव लड़कर वो माढा सीट से जीत हासिल करके संसद पहुंचे।  2014 में राकांपा के विजय सिंह मोहिते ने इस सीट से चुनाव लड़ा और मोदी लहर में भी मोहिते को 4,89,989 वोट मिले थे।