इंदौर । इंदौर संसदीय क्षेत्र से 1999 में सुमित्रा महाजन पांचवी बार प्रत्याशी थी। इस चुनाव में कांग्रेस के पूर्व मंत्री महेश जोशी उन्हें तगड़ी टक्कर दे रहे थे। इंदौर में उस समय दिगंबर जैन संत आचार्य विद्यासागर जी महाराज का प्रवास था।
महेश जोशी ने जैन आचार्य श्री विद्यासागर जी के दर्शन कर आशीर्वाद प्राप्त किया। जोशी ने आजीवन चमड़े की वस्तु जागने का संकल्प लिया, जिसके कारण चुनाव में जैन मतदाताओं के बीच महेश जोशी की स्थिति काफी मजबूत हो गई थी।
इंदौर में भाजपा नेताओं को जब इस आशय के संकेत मिले, तो वह है काफी चिंतित हुए। सुमित्रा महाजन का चुनाव प्रचार करने प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेई इंदौर पहुंचे, तो सुमित्रा महाजन उनको लेकर आचार्य श्री के दर्शन के लिए पहुंचे। आचार्य श्री ने उन्हें आशीर्वाद दिया। जैन समाज ने प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेई से मांस के निर्यात पर रोक लगाने की मांग की थी। सुमित्रा महाजन और अटल जी ने मांस का निर्यात रुकने का आश्वासन भी दिया था। आशीर्वाद लेने का फोटो भाजपा ने जैन समाज के घरों और दुकानों तक लाखों की संख्या में पहुंचाया और भाजपा 1 लाख 31 हज़ार वोटों से चुनाव जीत गई।
कांग्रेस इस तरह की रणनीति में हमेशा पिछड़ती रही हैं। भारतीय जनता पार्टी चुनाव के समय उस हर पहलू पर ध्यान रखती है। जहां से थोक के भाव में वोटों की खेती हो सके। भाजपा कि इस चुनाव रणनीति की काट महेश जोशी और कांग्रेस नहीं कर पाई।