सुल्तानपुर में अपने लोकसभा क्षेत्र में चुनाव कार्यालय उद्घाटन के मौके पर मेनका गांधी ने अपने भाषण के वायरल होने पर अपने आईटी सेल पर भड़क गई. मेनका गांधी ने कहा कि मैंने जो उनको बोला, और जो टीवी पर दिखाया गया वो बिल्कुल अलग था. मुझे इस पर घबराहट इसलिये हुई क्योंकि मैं ऐसी नही हूं. मैं जो बोलती हूं, रटा नहीं है दिल का है. उन्होंने कहा कि मैं पहले दिन से आई और बहुत जोर लगा रही हूं कि हमारे मुसलमान भाई भी हमारे साथ आये, चाहे कुछ ही आएं.

बता दें कि वायरल हो रही वीडियो में मेनका गांधी कहती हैं कि मैं जीत रही हूं लोगों की मदद और प्यार से... लेकिन अगर मेरी जीत मुसलमानों के बिना होगी तो मुझे बहुत अच्छा नहीं लगेगा, क्योंकि इतना मैं बता देती हूं कि दिल खट्टा हो जाता है. फिर जब मुसलमान आता है काम के लिए तो मैं सोचती हूं कि रहने ही दो, क्या फर्क पड़ता है? आखिर नौकरी एक सौदेबाजी ही तो होती है. हम सब महात्मा गांधी की छठवीं औलाद तो हैं नहीं कि हम देते ही जाएंगे और फिर इलेक्शन में मार खाते जाएंगे.

मेनका गांधी ने कहा कि हमारा जो आईटी सेल है उसे केयर अप करने की जरूरत है. हमारे आईटी सेल ने कोई रिएक्शन नहीं लिया, नहीं हमारा भाषण लिया और न कुछ किया. उन्होंने कहा कि अब पता नहीं मुझे ऐसे आईटी सेल की जरूरत है या नहीं. आईटी सेल वाले पूरे दिन टिक-टिक करके हमारी तस्वीरें डालें, इससे इलेक्शन नहीं होगा. आप अपने आपको नहीं सुधारेंगे तो आईटी सेल का कोई फायदा नहीं है.