भोपाल। राजधानी के टीटी नगर थाना इलाका स्थित प्रीयदर्शी नगर में रहने वाले रिटायर्ड एएसआई टीआर चौरीवाल के घर किराए से रहने वाली दंपति के जघन्य हत्याकांड का पुलिस ने 24 घंटो मे खूलासा कर दिया है। पुलिस ने दोनो की बेरहमी से हत्या के आरोप मे मृतक के सगे भतीजे को गिरफ्तार किया है। गोरतलब है की बुधवार दोपहर को दंपत्ति की निर्मम हत्या कर दी गई थी। मृतक वृद्ध फारेस्ट डिपार्टमेंट का फोर्थ क्लास रिटायर्ड कर्मचारी था। पुलिस को घटना के बाद से की हत्या का संदेह मृतक के भतीजे मनीष पर था। जानकारी के अनुसार पुलिस को घटनास्थल पर पहुंचते ही मनीश की बॉडी लेग्वेंज देखकर उसपर शक हो गया था, जिसके बाद पुलिस ने कुछ सुरागो के आधार पर उसे हिरासत में ले लिया था। 
घटना का खूलासा करते हुए पुलिस अधिकारारियो ने बताया की 10 अप्रैल को शाम करीब  पांच बजे थाना टीटीनगर की डायल 100 को सूचना मिली थी कि, प्रियदर्शनी नगर नर्मदा भवन के पास एक मकान में पति-पत्नि घायल अवस्था में पडे है। सूचना मिलने पर थाना पुलिस घटनास्थल पर पहुची। घटना स्थल की जांच मे सामने आया की बुजुर्ग दंपत्ति की हत्या की गई है। घनी बस्ती के बीचो बीच दोहरे जघन्यकांड को लेकर अज्ञात आरोपी की धरपकड़ के लिये तीन टीमें गठित की गई एवं तीनों टीमों को अलग-अलग सुरागो की छानबीन के निर्देश दिये गये। अधिकारियो के अनुसार एक टीम चश्मदीद की तलाश मे व एक टीम आस-पास के क्षेत्र में घटना के बारे में जानकारी जुटाने के लिये व मामले में एक टीम बैंक से जानकारी प्राप्त करने रवाना की गई। पुलिस टीम को बैंक से जानकारी प्राप्त करने पर पता चला कि मृतक डालचन्द के बैंक अकाउण्ट में 01 मार्च 2019 को करीबन 11 लाख रूपये थे, जो कि 22 मा्रच 19 को घटकर 28 हजार ही बचे थे। इस जानकारी के मिलने पर पुलिस को हत्या का शक किसी करीबी पर ही जा रहा था। इसके बाद पुलिस टीम ने बैंक से ए.टी.एम. द्वारा पैसे निकालते हुए फुटेज प्राप्त किये गये। इस दोरान अन्य टीम द्वारा की गई पुछताछ मे मृतक की लडकी, ठेकेदार तथा पडोसियों ने अपना शक मृतक के भतीजे पर होना बताया। वही पुलिस को एटीएम के फुटेज मे भी मृतक का भतीजा ही पैसा निकालता नजर आया। इसके बाद पुलिस ने संदेही मनीष को हिरासत में लेकर उससे कडाई से पूछताछ करने पर उसने एटीएम से पैसा निकालना व एटीएम से खुद के द्वारा खरीदी करना बताया। आरोपी मनीष ने पुलिस को बताया की पेसा निकालने की जानकारी होने पर उसके चाचा मृतक डालचन्द  ने इसकी रिर्पोट थाने मे करने की बात कही थी ओर वो अगले दिन इसकी रिपोर्ट करने थाने जाने वाले थे। इसके बाद आरोपी भतीजे ने खूद को पुलिस के चुंगल से बचाने के लिये चाचा चाची की हत्या की साजिश रची। इसके बाद वो घटना के समय चाचा के घर पहुंचा वहॉ उसने पहले डालचन्द का मुँह तकिये से दबाकर सिलबट्टे से उनपर पूरी ताकत से वार कर उन्हे मोत के घाट उतार दिया। इसके बाद आरोपी ने अपनी चाची मृतिका बेटीबाई का मुँह भी तकिये से दबाकर आपरेशन ब्लैड से उनपर वार कर उनकी हत्या कर दी। इसके बाद आरोपी ने पुलिस को मृत दंपत्ती के घर से सिलबट्टे का पत्थर, आपरेशन ब्लैड और हत्या करते समय पहने हुए कपडे अपने घर भीमनगर से बरामद कराये। पुलिस अधिकारियो ने बताया की आरोपी भतीजे ने कत्ल करने की योजना टीवी पर दिखाये जाने वाले अपराधिक सीरीयलो को देखकर बनाई थी।