नई दिल्लीः केंद्रीय मंत्रियों नितिन गडकरी, वीके सिंह, पूर्व मुख्यमंत्रियों रमेश पोखरियाल निशंक, हरीश रावत और जीतन राम मांझी सहित कई राजनीतिक दिग्गजों ने 11 अप्रैल को लोकसभा चुनाव के पहले चरण के लिए नामांकन के अंतिम दिन सोमवार को पर्चा दाखिल किया. इसके अलावा पूर्व प्रधानमंत्री एच डी देवेगौड़ा (तुमकुर, कर्नाटक) बीजेपी की हेमा मालिनी (मथुरा, उत्तर प्रदेश) और नेशनल कांफ्रेंस के अध्यक्ष फारूक अब्दुल्ला (श्रीनगर, जम्मू-कश्मीर) ने भी सोमवार को नामांकन पत्र दाखिल किये. इन तीनों सीटों पर दूसरे चरण में 18 अप्रैल को मतदान होना है. मंगलवार इन सीटों पर नामांकन पत्र दाखिल करने का अंतिम दिन है.

कुल सात चरणों में होने वाले चुनावों के पहले चरण में 20 राज्यों की 91 सीटों पर चुनाव होंगे. नामांकन पत्रों की जांच मंगलवार को की जाएगी जबकि 28 मार्च तक नामांकन वापस लिया जा सकता है. केंद्रीय परिवहन एवं राजमार्ग मंत्री नितिन गडकरी ने नागपुर लोकसभा सीट से नामांकन पत्र दाखिल किया. 2014 के लोकसभा चुनाव में उन्होंने कांग्रेस के उम्मीदवार विलास मुत्तेमवार को 2.84 लाख वोटों से हराया था. उन्होंने नागपुर में पत्रकारों से कहा, "पिछले पांच वर्षों में नरेंद्र मोदी के नेतृत्व वाली सरकार द्वारा किए गए कार्यों के बारे में लोगों की राय अच्छी है." 

शिवसेना के रामटेक (एसी) सीट से मौजूदा सांसद कृपाल तुमाने और कांग्रेस के नाना पटोले ने भी नामांकन किया. जम्मू-कश्मीर में नेशनल कांफ्रेंस के अध्यक्ष फारूक अब्दुल्ला ने श्रीनगर सीट पर 18 अप्रैल को होने वाले दूसरे चरण के मतदान के लिए पर्चा भरा. इस दौरान उनके बेटे और नेशनल कांफ्रेंस के उपाध्यक्ष उमर अब्दुल्ला भी उनके साथ थे. नामांकन पत्र दाखिल करने के बाद पत्रकारों से बात करते हुए फारूक (83) ने देश में "सांप्रदायिक ताकतों" से लड़ने की प्रतिज्ञा की. उन्होंने कहा कि मैं अभी भी युवा हूं और बहुत काम करना है. हमें अपने देश को सांप्रदायिक ताकतों से बचाना होगा." 

इस बीच पत्रकार से नेता बने खालिद जहांगीर ने भी बीजेपी उम्मीदवार के तौर पर नामांकन पत्र दाखिल किया. तेलंगाना में करीब 700 उम्मीदवारों ने पहले चरण के लिये सोमवार को नामांकन पत्र दाखिल किये. कांग्रेस के प्रदेश प्रमुख एन उत्तम कुमार रेड्डी (नालगोंडा), ऑल इंडिया मज्लिस-ए-इत्तेहादुल मुस्लिमीन के अध्यक्ष असदुद्दीन औवेसी (हैदराबाद), पूर्व केंद्रीय मंत्री रेणुका चौधरी (खम्मम) टीआरएस सांसद और मुख्यमंत्री के चंद्रशेखर राव की बेटी के कविता (निजामाबाद) ने भी पर्चा भरा.

चुनाव आयोग के अधिकारियों ने लखनऊ में कहा कि उत्तर प्रदेश में लोकसभा चुनाव के पहले चरण के चुनाव के लिये करीब 123 उम्मीदवारों ने सोमवार को पर्चा भरा. इस तरह अब तक कुल 146 उम्मीदवार नामांकन कर चुके हैं. पड़ोसी राज्य उत्तराखंड में कांग्रेस के पांच, बीजेपी के तीन उम्मीदवार, प्रगतिशील समाजवादी पार्टी के एक उम्मीदवार ने राज्य की पांच सीटों पर 11 अप्रैल को होने वाले चुनाव के लिये पर्चा भरा. नामांकन दाखिल करने वाले बीजेपी नेताओं में पूर्व मुख्यमंत्री और हरिद्वार से सांसद रमेश पोखरियाल निशंक, नैनीताल से पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष अजय भट्ट और अल्मोड़ा (आरक्षित सीट) से सांसद अजय टम्टा शामिल हैं.

पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत (नैनीताल) समेत राज्य में कांग्रेस के सभी उम्मीदवारों ने भी सोमवार को नामांकन किया. बिहार में पूर्व मुख्यमंत्री जीतन राम मांझी, लोजपा नेता चिराग पासवान, राष्ट्रीय लोक समता पार्टी बिहार के अध्यक्ष भूदेव चौधरी समेत 60 उम्मीदवारों ने सोमवार को नामांकन पत्र दाखिल किये. राज्य की चार लोकसभा सीटों औरंगाबाद, जमुई, गया, और नवादा में 11 अप्रैल को मतदान होना है.

मेघालय में पूर्व मुख्यमंत्री और कांग्रेस के वरिष्ठ नेता मुकुल संगमा ने तुरा लोकसभा सीट से नामांकन किया. मेघालय की दो सीटों शिलांग और तुरा पर 11 अप्रैल को मतदान होना है. बीजेपी उम्मीदवारों विधायक सनबोर शुल्लई और पार्टी के राज्य उपाध्यक्ष रिकमैन जी मोमिन ने क्रमश: शिलांग और तुरा लोकसभा सीटों से नामांकन किया. मणिपुर में बाहरी मणिपुर लोकसभा सीट से आठ उम्मीदवारों ने नामांकन किया. इधर, ओडिशा के मुख्यमंत्री नवीन पटनायक, राज्य बीजेपी प्रमुख बसंत पांडा और नेता प्रतिपक्ष एवं कांग्रेस नेता नरसिंह मिश्रा ने भी सोमवार को पर्चा दाखिल किया. बीजू जनता दल (बीजद) के प्रमुख पटनायक ने पश्चिम ओडिशा के बरगढ़ जिले में बीजापुर विधानसभा क्षेत्र के लिए अपना नामांकन दाखिल किया.