मुम्बई । टीम इंडिया को आगामी विश्व कप में ऑस्ट्रेलियाई स्पिनर एडम जंपा से बच कर रहना होगा। हाल में समाप्त हुई घरेलू सीरीज में टीम इंडिया के कप्तान विराट कोहली सहित कई भारतीय बल्लेबाज जंपा का शिकार बने थे। कुल मिला देखा जाये तो जंपा ने टी-20 और एकदिवसीय दोनों प्रारुपों में शानदार गेंदबाजी की जिसके सामने भारतीय बल्लेबाजी टिक नहीं पायी। टी-20 और एकदिवसीय में कुल मिलाकर जंपा ने तीन बार विराट को आउट किया जिससे पता चलता है कि इस स्पिनर की गेंदबाजी कितनी बेहतर है। जंपा ने अपने प्रदर्शन से भारतीय स्पिनरों को भी पीछे छोड़ दिया। जंपा का इकॉनमी रेट 5.68 का रहा। इसके साथ ही वह सबसे किफायती गेंदबाज भी रहे जबकि दूसरी ओर भारतीय स्पिनरों में यजुवेंद्र चहल ने 8 और कुलदीप यादव ने 6 के औसत से रन दिए। 
भारत के खिलाफ पूरी सीरीज में जंपा ने भारतीय टीम के अनुभवी शीर्ष और मध्य क्रम के बल्लेबाजों को पवेलियन भेजा।  पहले मैच में उन्होंने विराट कोहली और अंबाती रायडू को आउट कर टीम इंडिया को मुश्किल में डाल दिया था पर महेन्द्र सिंह धोनी ने केदार जाधव के साथ मिलकर मैच बचा लिया। अगले मैच में इन्हीं दोनों बल्लेबाजों को जंपा ने अपना शिकार बनाया। तीसरे मैच में जंपा ने विराट को बोल्ड कर अपनी स्पिन का जादू दिखाया। पांचवे और निर्णायक मैच में उन्होंने रोहित शर्मा, विजय शंकर और रवींद्र जडेजा को आउट कर मैच अपनी टीम के पाले में कर दिया। जंप का सामना करना बल्लेबाजों के लिए इसलिए भी कठिन होता है क्योंकि वह हर मैच में वो कुछ ऐसी गेंद फेंकते हैं जो खेलने में असंभव सी होती हैं।