मध्य प्रदेश में ठंड का कहर फिर लौटा है. शनिवार को सर्दी ने फरवरी के कई रिकॉर्ड तोड़ दिए हैं. भोपाल में पारा 5.8 डिग्री तक पहुंच गया. इससे पहले 2012 में तापमान 5.4 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया था. प्रदेश में सबसे कम तापमान धार और नौगांव में पांच डिग्री सेल्सियस रहा.

दरअसल, इस साल ठंड ने पिछले कई सालों के रिकोर्ड तोड़ दिए. दिंसबर और जनवरी में उतर से आ रही बर्फीली हवाओं ने जहां ठंड से कंपाया वहीं फरवरी में भी ठंड से राहत नहीं मिल रही है. कुछ दिन की राहत के बाद फिर मौसम ने करवट ली है और तापमान सामान्य से कई डिग्री नीचे गिर गए हैं. राजधानी भोपाल की बात करें तो न्यूनतम तापमान ने पिछले 7 साल का रिकोर्ड तोड़ दिया और 2012 के बाद आज यानी शनिवार को सबसे कम टेम्प्रेचर दर्ज किया गया. ठंड के कहर का अंदाजा इस बात से लगाया जा सकता है कि पिछले 1 हफ्ते में पारा 13 डिग्री से 5.8 तक पहुंच गया है, जोकि सामान्य से भी 5 डिग्री कम है.

वहीं एक बार फिर प्रदेशभर के मिनिमम टेम्प्रेचर गिर गए हैं और सबसे कम फिलहाल धार में 4.9, नौगांन में 5 डिग्री और बैतूल में 5.6 तो भोपाल में 5.8 दर्ज किए गए. वहीं इंदौर में पारा 7.5 डिग्री सेल्सियस, ग्वालियर में 10 डिग्री और जबलपुर में 10.2 डिग्री तापमान दर्ज किया गया.

मौसम विभाग ने अनुमान जताया है कि आने वाले कुछ दिन मौसम यूं ही सर्द बना रहेगा और 10 फरवरी के बाद बारिश का एक दौर फिर आ सकता है.
पिछले 10 साल के राजधानी भोपाल के मिनिमम टेम्प्रेचर का हाल

साल दिन पारा

2009 12 फरवरी 11 डिग्री

2010 19 फरवरी 10.2 डिग्री

2011 3 फरवरी 10.5 डिग्री

2012 10 फरवरी 5.4 डिग्री

2013 17 फरवरी 8.7 डिग्री

2014 18 फरवरी 7 डिग्री

2015 1 फरवरी 10.5 डिग्री

2016 4 फरवरी 8.7 डिग्री

2017 1 फरवरी 10.8 डिग्री

2018 15 फरवरी 10.6 डिग्री


2019 9 फरवरी (आज) 5.8 डिग्री