राष्ट्रपिता महात्मा गांधी (Mahatma Gandhi) की पुण्यतिथि पर उनकी हत्या का स्वांग रचने के मामले में पुलिस ने अखिल भारत हिंदू महासभा की राष्ट्रीय सचिव पूजा शकुन पांडे (Puja Shakun Pandey) और उनके पति अशोक पांडे को बुधवार सुबह कोर्ट में पेश करने के बाद जेल भेज दिया। मुकदमा दर्ज होने के बाद दोनों फरार चल रहे थे। मंगलवार रात अलीगढ़ पुलिस ने पूजा और अशोक पांडे को दिल्ली से नोएडा में एंट्री करते वक्त गिरफ्तार कर लिया था। बुधवार सुबह पूछताछ करने के बाद दोनों को कोर्ट में पेश किया गया। यहां से दोनों को जेल भेज दिया। इस प्रकरण में सात आरोपियों को जेल पहले ही भेजा जा चुका है। इनमें से मंगलवार को दो आरोपी जमानत पर रिहा हो गए हैं। अब महासभा के पदाधिकारी आरोपी कुंज बिहारी मिश्रा और उत्तमा सिंह फरार चल रही है। इन दोनों के खिलाफ गैर जमानती वारंट भी जारी हो चुके हैं। वहीं पुलिस ने उत्तमा सिंह के खिलाफ कुर्की नोटिस प्राप्त कर लिए हैं।  कोर्ट में पेशी के दौरान पूजा पाण्डेय ने कहा कि उसे अपने किए पर कोई पछतावा नहीं है और उसने कोई अपराध नहीं किया। 
पूजा शकुन पाण्डेय और पति अशोक पाण्डेय को अलीगढ़ पुलिस ने मंगलवार रात दिल्ली से नोएडा में प्रवेश करते समय गिरफ्तार कर लिया था। पुलिस दोनों को गिरफ्तार कर अलीगढ़ के लिए रवाना हो गई थी। इलाहाबाद में मौजूदगी दर्शाकर दोनों ने पुलिस को गुमराह करने की कोशिश की लेकिन सर्विलांस टीम मोबाइल फोन की लोकेशन ट्रैस करती रही। दो दिन पहले उनकी लोकेशन हरियाणा में मिली तो अलीगढ़ से पुलिस टीमों को हरियाणा व दिल्ली भेजा गया। मंगलवार रात पुलिस ने दोनों को दिल्ली से गिरफ्तार कर लिया गया। दोनों को लेकर पुलिस अलीगढ़ के लिए रवाना हो गई है। इस बात की पुष्टि एसपी सिटी आशुतोष द्विवेदी ने भी की है। उनका कहना है कि दिल्ली में लोकेशन मिलने पर टीम को भेजा गया था। नोएडा में एंट्री करते समय दोनों को गिरफ्तार कर लिया। पुलिस ने पिछले दिनों सात लोगों को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया था। वहीं पूजा और अशोक फरार चल रहे थे। दोनों ने कोर्ट में सरेंडर याचिका दायर कर दी थी। सरेंडर करने के बजाय दोनों पुलिस को भ्रमित करने के लिए कुंभ में अमावस्या पर संगम में डुबकी लगाने की घोषणा कर दी थी।