नई दिल्ली बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह का मानना है कि उत्तर प्रदेश में एसपी-बीएसपी गठबंधन से 2019 चुनावों में पार्टी को कड़ी चुनौती मिल सकती है। उन्होंने यह भी कहा कि वे आश्वस्त हैं कि अमेठी या रायबरेली में से एक सीट पर उनकी पार्टी जीतेगी। 

एसपी-बीएसपी से मिलेगी चुनौती


शुक्रवार को मोदी सरकार के चार साल पूरे होने पर सरकार की उपलब्धियों की चर्चा करते हुए बातचीत में अमित शाह ने माना कि 2019 में होने वाले चुनावों में अगर समाजवादी पार्टी और बहुजन समाज पार्टी साथ मिल कर लड़ते हैं, तो बीजेपी को कड़ी चुनौती का सामना करना पड़ सकता है। शाह के मुताबिक यूपी में कुछ सीटों पर दोनों दलों का गठबंधन बीजेपी को कड़ी चुनौती दे सकता है। हालांकि शाह ने यह भी कहा कि वे आश्वस्त हैं कि रायबरेली या अमेठी में से एक सीट बीजेपी के खाते में जाएगी।


नहीं छोड़ेंगे शिवसेना का साथ


वहीं महाराष्ट्र में शिवसेना से गठबंधन पर बोलते हुए अमित शाह ने कहा कि बीजेपी 2019 में शिवसेना के साथ मिल कर चुनाव लड़ेगी। उन्होंने कहा कि हम नहीं चाहते कि वे एनडीए छोड़ कर बाहर जाएं, लेकिन अगर वे बाहर जाना चाहते हैं तो यह उनकी इच्छा पर निर्भर करता है। उन्होंने कहा कि हम दोनों की परिस्थितियों का सामना करने के लिए तैयार हैं।


विपक्षी नेता अपने राज्यों तक ही सीमित


उन्होंने कहा कि 2014 के आम चुनावों में भी विपक्ष उनके खिलाफ मिल कर लड़ा था, और 2019 के चुनावों में भी लड़ेगा, लेकिन आगामी चुनावों में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व में हमें 2014 से भी बड़ा बहुमत हासिल होगा। उन्होंने भावी गठबंधन पर सवाल उठाते हुए कहा कि ये दल अपने गृह राज्यों तक ही सीमित हैं और दूसरे राज्यों में इनका कोई प्रभाव नहीं है, एक-दूसरे के लिए क्या वोट लेकर आएंगे। 


22 करोड़ गरीबों का किया विकास


इससे पहले बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह ने सरकार की उपलब्धियों को गिनाते हुए कहा कि 2014 में जनता ने मोदी सरकार को भारी जनादेश के बाद जनता की भावनाओं को पूरा करना का प्रयास किया है। उन्होंने 'साफ नीयत, सही विकास' के नारे के साथ 48 माह के कामकाज की रिपोर्ट जारी की और दावा किया कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की सरकार देश के 22 करोड़ गरीबों के जीवनस्तर को ऊपर उठाने में कामयाब रही है। 


'2019 में मोदी सरकार फिर एक बार' का नारा


वहीं रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण ने 48 माह के कामकाज पर एक पावरप्वांइट प्रजेंटेशन पेश किया, जिसमें 13.25 लाख लोगों को 12 रुपए प्रतिवर्ष के प्रीमियम वाला सुरक्षा बीमा, तीन लाख 60 हजार गांवों को खुले में शौच से मुक्त बनाने और 7.25 करोड़ शौचालयों के निर्माण का विवरण पेश किया। इसके अलावा उन्होंने कृषि, सिंचाई, रक्षा, कूटनीति, उद्योग एवं व्यापार आदि हर क्षेत्र में उपलब्धियों का विवरण दिया गया और 2019 में मोदी सरकार फिर एक बार का नारा दिया गया।


गौरतलब है कि मोदी सरकार 4 साल की उपलब्धियों को 2019 के चुनावों की तैयारियों से जोड़ कर प्रचारित कर रही है। 4 साल पूरा होने पर बीजेपी नेता जनसंपर्क के जरिए लोगों को उपलब्धियां बताएंगे। वहीं पीएम 26 को कटक में रैली करेंगे और सीनियर मंत्री 4 दिन में 40 से ज्यादा रैलियां भी करेंगे। पार्टी की योजना है कि नेता और मंत्री देशभर में लोगों से मिलकर सरकार के कामकाज के बारे में जानकारी दें।