व्यस्तता भरे दिनों में कार्यों का निष्पादन कर पाना मुश्किल जरूर होता है परन्तु कार्य पूर्ण होने के बाद की अनुभूति बहुत ही सुखद होती है। यकीन न हो तो स्वयं के बारे में सोच कर महसूस कर सकते है कि आप अपने कार्यों का सफलतापूर्वक निष्पादन के पश्चात जब आराम की मुद्रा में आते है तो उस क्षण के आन्नद या संतुष्टि का अपना ही मजा है ।
प्रत्येक व्यक्ति अपने जीवन काल में सदैव तत्परता के साथ कार्य करता है ताकि वह अपना व परिवार का भरण पोषण कर सकें। परन्तु आवश्यकता से अधिक व्यस्तता तथा कार्य के दबाव में आकर मनुष्य के जीवन में नीरसता भी आना शुरू हो जाती है । जिसका सीधा प्रभाव व्यक्ति के परिवार तथा स्वयं की सेहत पर पड़ता है । मैं दिनभर की थकान के बाद रात में यही सोचता हूँ कि आगे के आराम के लिए अभी थकना ही जायज है।
परन्तु क्या यही सच है जो मैं सोचता हूँ  कि आगे चलके जीवन मे आराम पाने के लिए अपने आज को जरूरत से ज्यादा थकान देना ही सही होगा ।जिन्दगी बहुत ही अनमोल है पर तब, जब अपनी जिन्दगी के वास्तविक मूल्य का हमें सही से पता हो । हम अपनी जिन्दगी के मूल्य का निर्धारण कियें बगैर ही बहुमूल्‍य जिन्दगी को व्यर्थ की आराम या तनाव दिये जा रहे है । सुबह जागने से लेकर रात में सोने तक का सफर तनाव के साथ पूरा कर भविष्य का निर्धारण कर रहे है । जिन्दगी की यही रवायत सी प्रतीत होती है चलना ही जिन्दगी है चलती ही जा रही है । दिमाग चारों खाने चित्त  हो जाता है जब कभी सोचता हूँ कि अपने बीते २८ वर्षों में मैने ऐसा क्या किया जो ये बता सके कि मेरा भविष्य कैसा होगा । हम सभी दिन रात मेहनत करके अपने घर परिवार के लिए आराम कमाते है कि सब सुख चैन से रहे ।घर में लगा शीशा भी अब तो सवाल करने लगा है कि सुबह जब घर से तैयार करके भेजता हूँ तब तो तुम हीरो लगते हो, शाम को आते हो तो मै पहचान नहीं पाता हूँ   ऐसा क्यूँ है असित । मेरे आइने के इस प्रश्न का सटीक जबाव मेरे पास नहीं होता है । आज के इस प्रतिस्पर्धा के युग मे काम का इतना दबाव है कि तनाव, माइग्रेन,पारिवारिक कलह आदि कई प्रकार की समस्याओं से प्रत्येक व्यक्ति किसी न किसी रूप में जूझ रहा है ताकि उसका कल बेहतर बन सके । कल को बेहतर बनाने के लिए आज को व्यथित करना तनावपूर्ण करना न्यायसंगत नहीं है । मेरी सभी से विनम्र अपील है कि अपने कल को  आरामदायक बनाने के लिए अपने आज को आवश्यकता से अधिक थकाने की जरूरत नहीं है। स्वस्थ आज में ही आरामदायक कल का रहस्य छिपा है। अतः स्वस्थ रहें मस्त रहें।